बुधवार, 19 सितंबर 2018

न्याय का हिसाब

न्याय का हिसाब

जब जब मुझे छोटा बनाया गया
मेरे तजुर्बे के कद को बढ़ाया गया

जब जब हँसकर दर्द सहा
तब तब और आजमाया गया ,

समझने के वक्त समझाया गया
क्या से क्या यहां बनाया गया ,

न्याय का भी अजीब हिसाब रहा
गलत को ही सही बताया गया ।

ज्योति सिंह

आदमी


शीर्षक  --आदमी

मुनाफे के लिए आदमी
व्यापार बदलता है,

खुशियों के लिए आदमी
व्यवहार बदलता है ,

ज़िन्दगी के लिए आदमी
रफ्तार बदलता है ,

देश के लिये आदमी
सरकार बदलता है ,

तरक्की के लिए आदमी
ऐतबार बदलता है,

दुनिया के लिए आदमी
किरदार बदलता है ।

और इसी तरह
बदलते बदलते

एक रोज यही आदमी
ये संसार  बदलता है ।

ज्योति सिंह

शनिवार, 28 अप्रैल 2018

हमेशा आगे रहूंगी

तुम अपनी आदते बदल दो

मैं अपने इरादे बदल दूंगी ,

तुम अपनी जिद्द छोड़ दो

मैं जीने की वजह दे दूंगी ,

तुम अपने कदम बढ़ाओ

मैं चलने की हिम्मत दे दूंगी ,

तुम अपने हाथ बढ़ाओ

मैं बढ़कर  थाम  लूँगी  ,

मैं नारी हूँ ,रहती पीछे हूँ

पर जब - जब  जरूरत पड़ी

आगे रही हूँ  और

हमेशा आगे रहूंगी  ।

शुक्रवार, 23 मार्च 2018

अधूरे रहे

फिर से बच्चा बनना है
बड़े होने पर सोचते रहे ,

बड़े होने की जल्दी रही
जब हम बच्चे रहे ।
 
जो आसान  नजर आया
वही रास्ता नापते रहे ,

हर वक्त जिम्मेदारियों से
हम दूर भागते रहे ।

जो नहीं होता है उसी की
हम चाहत रखते रहे ,

यही वजह है हुए पूरे नहीं
हम अधूरे रहे ।

बुधवार, 28 फ़रवरी 2018

मन के मोती

किस वादे पर  इंसान कर बैठा नफरत

करके कोई पहल इसे मिटा क्यों नहीं देते ,

क्यों पैदा करते है दिलो में ऐसी हसरत

जो सब कुछ आकर यहाँ उजार है देते ।
………...........................................
आदमी जिंदगी के जंगल में

अपना ही करता शिकार है ,

फैलाता है औरो के लिये जाल

और फंसता खुद हर बार है ।
***********************
छोटे छोटे कदम ही लंबे लम्बे  सफर तय किया करते है,
मंजिल के नजदीक पहुँच कर सफलता को चूमा करते है ।

शुक्रवार, 2 फ़रवरी 2018

एक रोज ...

अपनी धरती होगी
अपना आसमान होगा ,
मान होगा सम्मान होगा
हक़ का सारा सामान होगा,
एक रोज औरत का
सारा जहान होगा ।

बुधवार, 17 जनवरी 2018

औरत

औरत

वो सवाल है वो जवाब है
वो खूबसूरत सा खयाल है ,
वो आज है वो कल है
हर समस्याओ का हल है ,
वो सहेली है वो पहेली है
दुनिया की भीड़ में अकेली है ।
वो मोती है वो ज्योति है
वो इस सृष्टि में अनोखी है ।
वो दर्द है वो मुस्कान है
सुख-दुख में एक समान है ।
वो सांसो का बंधन है
वो रिश्तों का संगम है ।
वो खुशबू है चंदन की
वो रौनक है आंगन की ।
मत समझो केवल 'निर्भया' उसे
पड़ी जरूरत तो वो अभया है ।