शनिवार, 28 अप्रैल 2018

हमेशा आगे रहूंगी

तुम अपनी आदते बदल दो

मैं अपने इरादे बदल दूंगी ,

तुम अपनी जिद्द छोड़ दो

मैं जीने की वजह दे दूंगी ,

तुम अपने कदम बढ़ाओ

मैं चलने की हिम्मत दे दूंगी ,

तुम अपने हाथ बढ़ाओ

मैं बढ़कर  थाम  लूँगी  ,

मैं नारी हूँ ,रहती पीछे हूँ

पर जब - जब  जरूरत पड़ी

आगे रही हूँ  और

हमेशा आगे रहूंगी  ।

शुक्रवार, 23 मार्च 2018

अधूरे रहे

फिर से बच्चा बनना है
बड़े होने पर सोचते रहे ,

बड़े होने की जल्दी रही
जब हम बच्चे रहे ।
 
जो आसान  नजर आया
वही रास्ता नापते रहे ,

हर वक्त जिम्मेदारियों से
हम दूर भागते रहे ।

जो नहीं होता है उसी की
हम चाहत रखते रहे ,

यही वजह है हुए पूरे नहीं
हम अधूरे रहे ।

बुधवार, 28 फ़रवरी 2018

मन के मोती

किस वादे पर  इंसान कर बैठा नफरत

करके कोई पहल इसे मिटा क्यों नहीं देते ,

क्यों पैदा करते है दिलो में ऐसी हसरत

जो सब कुछ आकर यहाँ उजार है देते ।
………...........................................
आदमी जिंदगी के जंगल में

अपना ही करता शिकार है ,

फैलाता है औरो के लिये जाल

और फंसता खुद हर बार है ।
***********************
छोटे छोटे कदम ही लंबे लम्बे  सफर तय किया करते है,
मंजिल के नजदीक पहुँच कर सफलता को चूमा करते है ।

शुक्रवार, 2 फ़रवरी 2018

एक रोज ...

अपनी धरती होगी
अपना आसमान होगा ,
मान होगा सम्मान होगा
हक़ का सारा सामान होगा,
एक रोज औरत का
सारा जहान होगा ।

बुधवार, 17 जनवरी 2018

औरत

औरत

वो सवाल है वो जवाब है
वो खूबसूरत सा खयाल है ,
वो आज है वो कल है
हर समस्याओ का हल है ,
वो सहेली है वो पहेली है
दुनिया की भीड़ में अकेली है ।
वो मोती है वो ज्योति है
वो इस सृष्टि में अनोखी है ।
वो दर्द है वो मुस्कान है
सुख-दुख में एक समान है ।
वो सांसो का बंधन है
वो रिश्तों का संगम है ।
वो खुशबू है चंदन की
वो रौनक है आंगन की ।
मत समझो केवल 'निर्भया' उसे
पड़ी जरूरत तो वो अभया है ।

सोमवार, 15 जनवरी 2018

लेन -देन

पाना है तो देना है
बात समझ ये लेना है ।
बात बराबर न हो तो
बोझ न मन पर लेना है ।
तुम बेहतर हो ,कहकर
मन को समझा लेना है ।
मौका कहाँ ये सबको मिलता
बस इतना जान  लेना है ।
रब तुम पर है मेहरबान
इस बात पर खुश हो लेना है ।
पाना है तो देना है
बात समझ ये लेना है ।

शनिवार, 13 जनवरी 2018

कल उतना ही सुंदर हो......

कल उतना ही सुंदर हो
जितना बचपन मेरा था ।
न जवाबों की जरूरत थी
न सवालों का डेरा था ।

न मजहब का झगड़ा था
न तेरा न मेरा था ,
जात-पांत का भेद न जाना
मन से मन का फेरा था ।

जो कहता मन मेरा था
वह करता मन मेरा था ,
मुक्त गगन के निचले तल पर
स्वतंत्र स्वछंद बसेरा था ।

भावनाओं से बंधा हुआ
जीवन स्वप्न सुनहरा था ,
हर रात सुकून भरी होती
हर दिन नया सवेरा था ।

गुरुओं का आशीर्वाद लिए
सद्ज्ञान का लगता फेरा था ,
नित अनुशासन में बंधा हुआ
विद्यार्थी जीवन मेरा था ।
कल उतना ही सुंदर हो
जितना बचपन मेरा था ।