सोमवार, 27 जुलाई 2009

खट्टी -मीठी बात

हर रोज़ ज़िन्दगी की एक


नई कहानी होती है ।


इस गुजरते वक्त की न जाने


क्या -क्या मेहरबानियाँ होती है ।





-------------------------------------------


कहाँ जाना था ,कहाँ से


गुजर गए हम ।


इस तूफानी रात के साये से


लिपट गए हम ।





++++++++++++++++++++++


कई ख्वाहिशे इर्द -गिर्द समेटे


इंसान जीता है ,


किसी को तोड़ता व


किसी को जोड़ता है ।





_______________________


किसी बिम्ब को आप


प्रतिबिम्ब बना लीजिये ,


आइने में जिसे चाहे



उसे छुपा लीजिये ।





>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>


अमृत

के प्यालो

में ,

विष भी ज़रा -ज़रा

गुनाहगारों में

शामिल हो रहे सभी यहाँ ।


5 टिप्‍पणियां:

ARUNA ने कहा…

मुझे तो ये बहुत मीठी लगी ज्योति जी!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

खूबसूरत सब छनिकाएं ........... जीवन के आस पास बिखरी हुयी ...........

योगेश स्वप्न ने कहा…

sabhi kshanikaayen sunder,

ज्योति सिंह ने कहा…

aruna ji,digambar ji,yogesh ji bahut bahut dhanyawaad .

गुंजन ने कहा…

ज्योति जी,

आप इन्हें बेशक क्षणिकायें कहें, हम तो दुनियानामा कहेंगे, जो देखा वह बयाँ किया। बहुत अच्छा लिखा है।

पत्रिका-गुंजन

आपका स्वागत है, एक साहित्यिक पहल से जुड़ने के लिये।