शनिवार, 9 अक्तूबर 2010


है कठिन जमाना लिए कठिन दर्द
अन्याय की दीवारों में ,
जख्मो की बेड़िया पड़ी हुई है
परवशता के विचारो में ।
रोते -रोते शमा के अश्क
बदल गये अब सिसकियो में ,
हर दर्द उठाती है मुस्कान
इस बेदर्द जमाने में ।
छुपाये नही छिपते है आंसू
हकीकत के इन आँखों में ,
एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।
रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में ।

36 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में ।

बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति

शरद कोकास ने कहा…

बेहतरीन आशावाद है इस कविता मे ।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।
रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में...

बहुत उम्दा रचना.

मनोज भारती ने कहा…

रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में ।


गहरा आशावाद ... सुंदर अभिव्यक्ति !

अल्पना वर्मा ने कहा…

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।
रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में ।

---उम्मीद बनी रहनी चाहिये.हिम्मत नहीं हारनी चाहिये .
कविता में बहुत अच्छे भाव हैं

M VERMA ने कहा…

बेहतरीन यथार्थ

संजय भास्कर ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति....

नवरात्रि की आप को बहुत बहुत शुभकामनाएँ ।जय माता दी ।

संजय भास्कर ने कहा…

हमेशा की तरह "ला-जवाब" जबर्दस्त!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर, अपने लक्ष्य तक पहुचने की हिम्मत दर्शाती आप की यह कविता, धन्यवाद

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... क्या बात है ... लाजवाब ...

mahendra verma ने कहा…

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन की इन राहों में
निराशा के बाद आशा का संचार करती एक सुंदर कविता।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

परवशता के अँधेरों से तो निकलना पड़ेगा।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

अच्छी कविता है ज्योति जी.

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।

सुंदर कविता की अति सुंदर पंक्तियां

Apanatva ने कहा…

sunder rachana.....amavas hai to poonam bhee hai


patjhad hai to basant bhee hai........kisee ke jeet humaree haar to kabhee humareejeet kisee kee haar hotee hai.........

Aabhar

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति वा आशावाद

BrijmohanShrivastava ने कहा…

कितने अलंकार एक जगह एकत्रित कर दिये, उपमायें भी सटीक।विचारों में परवशता,जख्मों की बेडियां, दर्द कठिन, जमाना कठिन, हकीकत की आंख में आंसू का न छिप सकना ,वेदर्द जमाने में दर्द और मुस्कान का ताल मेल बहुत गम्भीर रचना ।

Sunil Kumar ने कहा…

आशावाद, सुंदर अभिव्यक्ति

sandhyagupta ने कहा…

दशहरा की ढेर सारी शुभकामनाएँ!!

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

ज्योति जी जरुर रौशन करेगी .....
आप यूँ ही लिखते रहिये .....!!

अरुणेश मिश्र ने कहा…

उत्कृष्ट ।

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।
रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में...

बेहतरीन भाव ................
हम भी इसी तरह की अनगिनत हारों से गुज़र रहे हैं किसी अंतिम जीत की ही तलाश में.............

सुन्दर प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई........


चन्द्र मोहन गुप्त

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar ने कहा…

छुपाये नही छिपते है आंसू
हकीकत के इन आँखों में ,

और-

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।

ये अभिव्यक्तियाँ पसंद आयीं...बधाई!

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

निराशा के बाद फिर उम्मीद की किरण सुकून देती है.

सुंदर कृति.

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

एक जीत नजर आती है जिंदगी
जीवन के इन हारो में ।
रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में ।
aashabad kee bahut hee sundar rachna ...badhayi

गिरीश बिल्लोरे ने कहा…

Nice
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

अल्पना वर्मा ने कहा…

प्रिय ज्योति ,आपको और परिवार में सभी को दीपावली के इस पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ.

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

सुन्दर रचना। बधाई।आपको व आपके परिवार को भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें।

BrijmohanShrivastava ने कहा…

आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

sandhyagupta ने कहा…

रात को रौशन कर देगी कभी
चाँदनी अपने उजालो में ।

आमीन.
सुन्दर और प्रभावी अभिव्यक्ति. यूँ ही लिखते रहिये.

Apanatva ने कहा…

jyoti bahut sakaratmak soch liye ye rachana bahut pyaree hai........

mridula pradhan ने कहा…

bahut sundar.

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

अच्छी अभिव्यक्ति !
-ज्ञानचंद मर्मज्ञ

hot girl ने कहा…

nice poem.

muskan ने कहा…

बहुत ही सुंदर.

सतीश सक्सेना ने कहा…

शायद यह उम्मीद ही जीवन का सहारा बन जाती है ....