मंगलवार, 29 मार्च 2011

ओस ...



ओस की एक बूँद

नन्ही सी

चमकती हुई

अस्थाई क्षणिक

रात भर की मेहमान ___

जो सूरज के

आने की प्रतीक्षा

कतई नही करती ,

चाँद से रूकने की

जिद्द करती है ,

क्योंकि

दूधिया रात मे

उसका वजूद जिन्दा

रहता है ,

सूरज की तपिश

उसके अस्तित्व को

जला देती है ।

28 टिप्‍पणियां:

: केवल राम : ने कहा…

दूधिया रात मे
उसका वजूद जिन्दा
रहता है ,
सूरज की तपिश
उसके अस्तित्व को
जला देती है ।

हर किसी को अपने अस्तित्व का ख्याल रहता है ..चाहे ओंस की बूंद हो या कोई और जिससे उसका बजूद बचता है वह उससे रुकने का आह्वान करता है ...आपका आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सूरज के द्वारा वाष्पित कर देने का भय भी उसे शीतलता बिखेरने से नहीं रोकता है।

रचना दीक्षित ने कहा…

परिस्थितियों मजबूर कर देती है अपने आस्तित्व को बचाने के लिए समझौता करने को. पर इस भय से भयाक्रांत हुए बिना अपना प्रभाव छोड़ना ही सच्चे जीवन की सफलता है.

Rakesh Kumar ने कहा…

ओस की बूँद के माध्यम से मृदुल कोमल भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति की है आपने.उसे द्वैत भाव में जीना अधिक अच्छा लगता है,क्योंकि सूर्य की तपिश से तो वो एकाकार हो जायेगी सूर्य के साथ ,अपने खुद के अस्तित्व को मिटा कर.

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

इन्हीं ओस की बूंदों में न जाने कितने जीवन की कहानी भी छुपी होती है ! हम भी तो अपना अस्तित्व बचाने के लिए डर डर कर जीने के लिए मज़बूर होते हैं !
आपकी कविता में संवेदना की असीमित गहराई होती है !
आभार !

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय ज्योति सिंह जी
नमस्कार !
ओस की बूँद के माध्यम से मृदुल कोमल भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति की है
..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

संजय भास्कर ने कहा…

कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

ओस की बूँद का सुंदर बिम्ब और कोमल भाव .....बेहतरीन रचना बन पड़ी है.......

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

चांद से रुकने का मनुहार करती ओस की बूंद का कितना मोहक शब्द चित्र उकेरा है आपने । बधाई ।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच कहा है .. ओस की बूँद का अस्तित्व क्षणिक ही होता है ... पर अपनी पहचान छोड़ जाता है ...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

दूधिया रात मे
उसका वजूद जिन्दा
रहता है ,
सूरज की तपिश
उसके अस्तित्व को
जला देती है ।
... bahut achhi rachna

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

जो सूरज के

आने की प्रतीक्षा

कतई नही करती ,

चाँद से रूकने की

जिद्द करती है ,

kyaa bat hai! bahut sundar !man ko chhoo gai ap ki ye kavita
badhai ho

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (31-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

Kunwar Kusumesh ने कहा…

nicely written

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत खूब ...सुन्दर अभिव्यक्ति

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

जहाँ शीतलता मिले मानुष वही आकर्षित होता है
बहुत अच्छे भाव ....!!

Apanatva ने कहा…

chand shavdo me gahra darshan.......
honee taltee nahee.
aae hai to jana hee hai.....

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा रचना.

शोभना चौरे ने कहा…

ओस की बूँद ही अपने आप में खूबसूरत है उस पर चाँद की चांदनी |बहुत सुन्दर रचना |

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

बेहतरीन रचना....

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

बहुत उम्दा रचना.

mridula pradhan ने कहा…

wah. bahut khoobsurat hai oos ki yah boond....

Kunwar Kusumesh ने कहा…

नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की हार्दिक बधाई

mahendra verma ने कहा…

यह रचना केवल एक भावपूर्ण कविता ही नहीं है बल्कि इसमें जीवन दर्शन भी समाहित है।

मदन शर्मा ने कहा…

दूधिया रात मे
उसका वजूद जिन्दा
रहता है ,
सूरज की तपिश
उसके अस्तित्व को
जला देती है ।
भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति की है
..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

इस चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से हमारा नव संवत्सर शुरू होता है. इस नव संवत्सर पर आप सभी को हार्दिक शुभ कामनाएं ……

JHAROKHA ने कहा…

jyoti ji
itna sab janane ke bavjud aos ki nanhi si bund jab talak rahti hai patto pr baithi hui apni sudarta avam soumyta ko samet kar sbhi ke dil ko ek alag si khushi pradan karti hai .
yah jante hue bhi ki uska jeevan xhnik hi hai.
bahut sarthakaur seekh dene wali rachna
badhai
poonam

BrijmohanShrivastava ने कहा…

ओस की बूंद सूरज के आने की बैसे ही प्रतीक्षा नहीं करती जैसे जैसे आदमी बुरे वक्त की प्रतीक्षा नहीं करता मगर आता है सूरज भी आता है अस्तित्व भी नष्ट होता है मगर पुन दूसरी रात उसे जीवन मिलता है यही क्रम अनवरत चलता रहता है । यही जीवन है चाहे ओस का हो या मानव का।

सारा सच ने कहा…

अच्छे है आपके विचार, ओरो के ब्लॉग को follow करके या कमेन्ट देकर उनका होसला बढाए ....