सोमवार, 28 सितंबर 2009

आज.....

दिल ये मानता है उम्र भर

साथ कोई चलता नही ,

दिल ये समझ नही पाता

वो तन्हा जी सकेगा कि नही

किसी मुकिम की तलाश में

ख्वाहिश सदा रही साथ चलने की ,

निबाहे जहाँ वफ़ा के संग

मुकाम वो हो कोई दिल का भी

दुनिया की भीड़ में होकर भी

चाह थी हमें किसी अपने की ,

तमाम उम्र का हिसाब है किसके पास

वर्तमान में भविष्य को तौलता कोई नही

सम्भव हो जहाँ तक ,तब तक चल

आज है संग हमराही ,

अभी देखना क्या कल

कल देखेंगे कल की

11 टिप्‍पणियां:

Apoorv ने कहा…

सम्भव हो जहाँ तक ,तब तक चल
आज है संग हमराही ,
अभी देखना क्या कल
कल देखेंगे कल की ।

वर्तमान को पूरी शिद्दत से जी लेने की और कल के बारे मे सकारात्मक रुख रखने की आपकी सोच प्रभावित करती है..

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा भाव लिए बेहतरीन अभिव्यक्ति.

आपको विजयादशमी की बधाई!

योगेश स्वप्न ने कहा…

uttam rachna. badhaai.

Apanatva ने कहा…

बहुत ही सुंदर भावो की अभिव्यक्ती |
बधाई

M VERMA ने कहा…

आज है संग हमराही ,
अभी देखना क्या कल
कल देखेंगे कल की ।
और फिर
दिल ये मानता है उम्र भर
साथ कोई चलता नही ,
बहुत सही भाव और सम्प्रेषण.

Babli ने कहा…

सुंदर भाव और अभिव्यक्ति के साथ बहुत ही ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने ! विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें!

ज्योति सिंह ने कहा…

aap sabhi logo ka shukriya .aur saath hi vijyadashmi ki badhai .

शोभना चौरे ने कहा…

jyotiji bahut sundar bhav ke sath liye huye hai yh rachna .
bdhai

ज्योति सिंह ने कहा…

tarif ke liye shukriya shobhna ji.

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

achhi abhivyakti he/ behatar dhhng se chune shbdo ko sarlta prdaan ki gai he/

ज्योति सिंह ने कहा…

shukriyan amitabh ji .