शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

ब्लोगर बंधुओ के नाम

कब किससे कैसे कहें


अपने दिल की बात ,


इन सारी बातों से


हम सभी हुए आजाद


एक साथी ब्लौग है,


दूजी कलम है पास


जीवन के हर रंग में


एक दूजे के साथ ,


सारी दुनिया जोड़ के


तनहा नहीं कोई आज


एक ही जाल बुन रहा


सुंदर सुखद समाज


यहाँ किसी का शोर है


और ना मन पे ज़ोर ,


खुले आकाश में उड़ रही


आज पतंग निसोच ,


उस के रास्ते काटने


आएगा नहीं कोई और


इन्द्र -धनुष के रंगों से


हो रही यहाँ मुलाक़ात ,


मंजिल के साथ ही मानो


चल रहे सब आज

17 टिप्‍पणियां:

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

बहुत सुंदर है - आपकी यह कविता!
--
कह रहीं बालियाँ गेहूँ की - "मेरे लिए,
नवसुर में कोयल गाता है - मीठा-मीठा-मीठा!"
--
संपादक : सरस पायस

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुन्दर कविता.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

आदाब
सच कहा ज्योति जी, अब तो क़लम की जगह नेट, और ब्लागर साथियों का समर्थन, आपसी जुड़ाव ने अलग ही संसार बना लिया है.

मनोज कुमार ने कहा…

आपसे सहमत हूं।

Suman ने कहा…

nice

योगेश स्वप्न ने कहा…

sunder rachna. badhaai.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच लिखा है ... अंजाने से मधुर रिश्ते जुड़ जाते हैं इस ब्लॉगिंग की दुनिया में .... सुंदर रचना है आपकी ....

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत खुबसूरत कविता मैं तो बस आंख मींच कर आपके पीछे पीछे ही चल रही हूँ और आप लोगों के सहारे ही हूँ.आगे आने की न कोई इच्छा ना कोई होड़

Apanatva ने कहा…

bahut sahee baat badeepyaree rachana ke madhyam se kah dee aapne........
aapkee vichardhara ke sath hee hai ham.....

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

bahut badhiya ,badhai ho

रश्मि प्रभा... ने कहा…

yah pyaar bhara saath hamesha bana rahe.......

ज्योति सिंह ने कहा…

arse baad rashmi ki kiran bikhri shukriyaan .raavendra ji ,shahid ji ,mirza ji ,manoj ji,sumanji,digamber ji yogesh ji,rachna ji ,apantava ji.ismat ji aap sabhi ka tahe dil se shukriyaan .

अर्कजेश ने कहा…

बधाई हो कि ब्‍लागिंग में आपके सुखद अनुभव से यह कविता निकली । वरना यहॉं पतंगें लडाई भी जाती हैं और कट भी जाती हैं । :)

यदि ब्‍लॉगिंग सुखद स्‍वप्‍न की तरह है तो उसे कविता के माध्‍यम से बखूबी व्‍यक्‍त किया है ।

'अदा' ने कहा…

sach kahti hain blogging ki dunia hi aisi hai
khoobsurat anubhooti karwa gayi aapki kavita..
aabhaar..

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

सुंदर......!!

ज्योति सिंह ने कहा…

aap sabhi logo ka jyoti tahe dil se shukriyaan karti hai .aapke vichar nayi disha ka gyan karate hai .

संजय भास्कर ने कहा…

सच लिखा है ... अंजाने से मधुर रिश्ते जुड़ जाते हैं इस ब्लॉगिंग की दुनिया में .... सुंदर रचना है आपकी ....