शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2010

काश..




'काश'
ज़िन्दगी के
हर पृष्ठ पर
जमे हुए है
बेहिसाब ,
जहाँ उठी
बेबसी
चल दिये साथ ।
असीमित
असंभव
पथ में ,
सर्वदा रहे
उदास ,
'काश '
बेहद ख़ास ।









21 टिप्‍पणियां:

Ravindra Ravi ने कहा…

"काश" बेहद खास है ज्योतिजी! बहुत ही सही लिखा है. कम शब्दो मी बहुत बडी बात!!!यही तो है खास!!

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता. बधाई.

ARUNA ने कहा…

बहुत खूब ज्योति जी!

राज भाटिय़ा ने कहा…

कविता मै कही उदासी झलकती है, बहुत खुब
धन्यवाद

Suman ने कहा…

nice

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

kash....kash....kash....aisa ho pata ....hai n ....????

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

सुन्दर रचना. मुबारकबाद

रश्मि प्रभा... ने कहा…

kaash......wakai bahut khaas

योगेश स्वप्न ने कहा…

wakai behad khas abhivyakti.

अल्पना वर्मा ने कहा…

sundar rachna
Kaash!!!!!!!...na jane kitne sapne dikhata hai ye 'kaash'!

रचना दीक्षित ने कहा…

क्या खूब कहा है ज्योति जी, इस काश को काश हम भी समझ पाते

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बस एक यही शब्द है जिसके आगे बस इंसान कुछ नही कहता बस ... मन बोलता है मौन में .....

kumar zahid ने कहा…

'काश'ज़िन्दगी के हर पृष्ठ पर जमे हुए है बेहिसाब ,जहाँ उठी बेबसी चल दिये साथ । असीमित असंभव पथ में ,सर्वदा रहे उदास ,'काश 'बेहद ख़ास ।

aapki bhavnaon ke sath ho photo apne lagaya hai oh bhi bahut prabhokari hai. Badhai...

ज्योति सिंह ने कहा…

bahut bahut dhanyawaad aap sabhi ka ,aap sabhi ke aane se yahan hausala badha .

Pankaj Upadhyay ने कहा…

उदास नही रहना चाहिये था...काश तो सबके साथ होता है..काश! बहुत बढिया...

vishnu-luvingheart ने कहा…

sabse pahle to aap mere blog pe aaye, uska sahriday dhanyawad...
ye ek vidambana hai ki "kash" word hamesha udasi ya afsos ke vakyon ke sath hi judta hai....
sahi mein apne gagar mein sagar bhara hai....

बूझो तो जानें ने कहा…

आपकी यह कविता बहुत अच्छी लगी.

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

वाह गागर में सागर जैसी बात कह दी...
बच्चो के एक्साम्स है...इसलिए दिखाई कम देती हु

ज्योति सिंह ने कहा…

aap sabhi ka bahut bahut shukriyaan ,jo is kaash ko apni apni tippaniyo se khas banaya ,kaash aksar namumkin jagah me hi saamne aata hai isliye thoda udaas avam nirash sa ho jaata hai ,

संजय भास्कर ने कहा…

वाह .....jyoti जी गज़ब का लिखतीं हैं आप .......!!

Apanatva ने कहा…

ye kaise padana choot gaya .......
chaliye der aae durust aae.
sunder rachana.......
Happy holi.......