रविवार, 9 मई 2010

माँ ..... ........


एक वृक्ष की तरह
अटल ,स्थिर ,शांत
धीर -गंभीर सी ,
ये माँ
अपने बच्चो को
सदा फल वो
छाया देती ही रही ,
इशारों में ही हर जरूरत ,
समझ कर पूरी
करती रही
बिना कहे दर्द सभी
भांप कर ,
एक मरहम बनकर
चोंट हमारी
मिटाती रही
खुद मुरझा कर
हमारे अरमान सींचती रही
इतनी सच्ची ' माँ',
अपने सिवा सबका
ख्याल रखने वाली
ऐसी माँ की
क्या इच्छा है ?
कभी जानने की भी
हमने कोशिश की
मन में है कई
बाते उसकी ,
कभी पूछो तो
आकाश बन जाएगा
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
जिसने जिंदगी के साथ -साथ
जीने का तजुर्बा भी दिया ,
उसके अहसास ,जज्बात को,
समझने की फुर्सत, हमें नही
.....................................................
माँ तुम्हे शत -शत नमन


23 टिप्‍पणियां:

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" ने कहा…

सबसे पहले माँ को प्रणाम .................

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" ने कहा…

माँ के आँचल में हम आज हमारे नहीं उसके ही अरमान बांधेगे ..................पल्लू से उसके कोई ममता भरी कहानी कह देगे .................

मनोज कुमार ने कहा…

आज के दिवस को समर्पित ये कविता प्रेरक है। मां को नमन।

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

bhut nirmal ehsaso se sajaya hai .badhayi.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

maa har jagah, har dil me hai...shubhkamnayen

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर कविता ओर बहुत सुंदर चित्र

Suman ने कहा…

nice

kshama ने कहा…

Sach kaha...kayi baar ham apne priyjanon ka pyar apna haq maan lete hain...aaj maine apni maa ko phone pe kaha," Aapki yaad to waise mujhe rozhi aati hai..guzarte dinon ke saath,taqreeban har waqt.."
Kuchh der baad unka palatke phone aya:" Tune mujhe khaas phone karke bataya...mujhe behad achha laga.."
Maa ke runse mai kabhi mukt hona bhi nahi chahti..lekin kabhi kabhar unse kah to sakti hun,ki wah mere liye kitni ahmiyat rakhti hain..

kshama ने कहा…

Jyotiji,meri 'Simte lamhen'pe likhi post zaroor padhen..

BrijmohanShrivastava ने कहा…

अटल,स्थिर,शान्त,धीर,गम्भीर ,बिना कहे दर्द का अहसास कर लेना और एक छायादार ब्रक्ष की तरह साया और फल देना ,खुद मुरझा कर बच्चों के अरमानों को पूरा करने वाली ""अपने सिवाय सबका ख्याल रखना "(अति सुन्दर लाइन)मां का ख्याल रखने वाले उसका हालचाल पूछने वाले अंगुली पर गिने जाने लायक ही है ।तभी श्री तरुणसागर जी को अपने प्रवचन मे कहना पडता है कि बूढे मा बाप को घर से मत निकालो "वर्तमान परिवेश मे मां के ऊपर बहुत अच्छी रचना

sangeeta swarup ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना...माँ के प्रति सुन्दर भाव

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

माँ पर लिखी हर रचना लाजवाब होती है ज्योति जी ...और आप तो लिखती ही बढ़िया हैं ....!!

बहुत खूब ......!!

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
जिसने जिंदगी के साथ -साथ
जीने का तजुर्बा भी दिया ,
उसके अहसास ,जज्बात को,
समझने की फुर्सत, हमें नही ।

बहुत सुंदर और भावपूर्ण कविता

nilesh mathur ने कहा…

बहुत सुन्दर कविता लिखी है आपने !

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

माँ सिर्फ माँ होती है, हर माँ की वही ख्वाहिश और वही त्याग . हर हाल में वन्दनीय है. उसके ऋण को कोई भी कभी भी नहीं उतर सकता .
बहुत सुन्दर रचना.

Apanatva ने कहा…

jyotijee maine abhee dekha meree tipannee hai hee nahee maine aapkee post padee thee aur man hee man bahut saraha bhee the aur dekhiye bina comment print kiye chalee gayee........ye bhullakadpan hee to hai........
ma ise rishte ko naman...........
ye bhee ittefak hee hai ki mai bhee unhee dino bahar ja rahee hoo vapasee mahine ke aakhir me hee hogee.
happy journey......

'अदा' ने कहा…

bahut hi sundar kavita..maa ko samarpit..
is prernadaayi kavita ke liye aapka aabhaar..
dhnywaad..

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच कहा ... भगा भागी में माँ की अहमियत हम नही समझ रहे .... अच्छी रचना है ...

अल्पना वर्मा ने कहा…

बहुत ही अच्छी कविता लिखी है ज्योति जी आप ने.
माँ की ममता ,उसका समर्पण अद्भुत है..अतुलनीय !
'माँ तुम्हे शत -शत नमन'

अरुणेश मिश्र ने कहा…

उत्तम रचना ।

शोभना चौरे ने कहा…

maa ko prnam aur in bhavnao ko shat shat naman.

प्रियदर्शिनी तिवारी ने कहा…

Maa -ham jitna bhi likhe kam hai.. aapne bahut achchha likha..

जयपालसिंह गिरासे ने कहा…

वाह... ! सुन्दर...! आप की प्रतिभा की तारीफ हम करते है! लिखते रहो...!