सोमवार, 6 जून 2011

तन्हा


यभीत हूँ

कही ये युग

बहुत ऊंचाई तक

पहुँचने के प्रयास में

नई तकनीक की

तलाश में

अपना वजूद न मिटा दे ,

महाप्रलय के शिकंजे में

फंस कर

अपना आधार न

गवा दे ,

आज हमें

सिर्फ तन्हा होने का

ख्याल डस रहा है ,

कल सारी धरती ही

तन्हा न हो जाये ______ l

33 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सच में स्थिति भय देने वाली ही है...... प्रभावित करती रचना

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

कविता अच्छी है परंतु "तमसो मा ज्योतिर्गमय" की संस्कृति के वाहकों के लिये यह भय बेमानी है।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

khatmprayah hi hai... shesh ki uthapatak jaari hai

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

स्वयं को स्थापित करने के प्रयास में तो यही निष्कर्ष दिखायी पड़ते हैं।

: केवल राम : ने कहा…

जीवन दर्शन को अभिव्यंजित करती रचना .......आपका आभार

वन्दना ने कहा…

सच को बयां करती सुन्दर रचना।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

ऐसा होने वाला है .. तरक्की कोई रोक नही सकता ... युग बदलेगा इस तन्हाई के बाद फिर से ....

राज भाटिय़ा ने कहा…

अति सुंदर लेकिन सत्य

Jyoti Mishra ने कहा…

truly day by day we r loosing our base !!
a thought provoking post !!

रचना दीक्षित ने कहा…

यह डर सताना तो लाजमी है. पर जीना भी जरुरी है. और विकास भी.

M VERMA ने कहा…

सार्थक चिंता ..

खूबसूरत रचना

Kunwar Kusumesh ने कहा…

स्थिति भयावह तो है ही क्योंकि आदमी तो अपनी हरकतों से बाज आने वाला अब है नहीं. क़ुदरत को ही कुछ करना पड़ेगा.

chirag ने कहा…

bahut khoob
aajkal har cheez out of limit hoti ja rhi hain

BrijmohanShrivastava ने कहा…

यही होगा यह कविता नहीं भविष्यवाणी है

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

कही ये युग
बहुत ऊंचाई तक
पहुँचने के प्रयास में
नई तकनीक की
तलाश में
अपना वजूद न मिटा दे ,

बहुत सुंदर और सार्थक रचना !!!!!!!!!

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत और शानदार रचना! सच्चाई को बड़े ही सुन्दरता से आपने प्रस्तुत किया है!

Rachana ने कहा…

sahi hai bhavishyavan hi hai hum kuchh aesa hi kar rahenhain

Sapna Nigam ( mitanigoth.blogspot.com ) ने कहा…

परिवर्तन ही जीवन का लक्षण है. हर युग में मनुष्य भयाक्रांत हुआ है किन्तु प्रकृति ने प्रतिकूल परिस्थितियों में भी अनुकूल परिस्थिति तैयार कर जीने की सम्भावना को अब तक जीवित रखा है.अनुग्रह की भी एक सीमा होती है.काश ! इस बात को अनुग्रहित मनुष्य समय रहते समझ ले.आपकी रचना में गहन विचार मंथन है

Vivek Jain ने कहा…

डरिये नहीं, कुछ नहीं होगा,
साभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

अल्पना वर्मा ने कहा…

चित्र और कविता के भाव एक दूसरे के पूरक लगे..तन्हाई कुछ इसी तरह भयावह होती है!

Dr Varsha Singh ने कहा…

आज हमें
सिर्फ तन्हा होने का
ख्याल डस रहा है ,
कल सारी धरती ही
तन्हा न हो जाये .....

बहुत ही सार्थक लेखन के साथ विचारणीय प्रश्न भी ..

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

लीगल सैल से मिले वकील की मैंने अपनी शिकायत उच्चस्तर के अधिकारीयों के पास भेज तो दी हैं. अब बस देखना हैं कि-वो खुद कितने बड़े ईमानदार है और अब मेरी शिकायत उनकी ईमानदारी पर ही एक प्रश्नचिन्ह है

मैंने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर श्री बी.के. गुप्ता जी को एक पत्र कल ही लिखकर भेजा है कि-दोषी को सजा हो और निर्दोष शोषित न हो. दिल्ली पुलिस विभाग में फैली अव्यवस्था मैं सुधार करें

कदम-कदम पर भ्रष्टाचार ने अब मेरी जीने की इच्छा खत्म कर दी है.. माननीय राष्ट्रपति जी मुझे इच्छा मृत्यु प्रदान करके कृतार्थ करें मैंने जो भी कदम उठाया है. वो सब मज़बूरी मैं लिया गया निर्णय है. हो सकता कुछ लोगों को यह पसंद न आये लेकिन जिस पर बीत रही होती हैं उसको ही पता होता है कि किस पीड़ा से गुजर रहा है.

मेरी पत्नी और सुसराल वालों ने महिलाओं के हितों के लिए बनाये कानूनों का दुरपयोग करते हुए मेरे ऊपर फर्जी केस दर्ज करवा दिए..मैंने पत्नी की जो मानसिक यातनाएं भुगती हैं थोड़ी बहुत पूंजी अपने कार्यों के माध्यम जमा की थी.सभी कार्य बंद होने के, बिमारियों की दवाइयों में और केसों की भागदौड़ में खर्च होने के कारण आज स्थिति यह है कि-पत्रकार हूँ इसलिए भीख भी नहीं मांग सकता हूँ और अपना ज़मीर व ईमान बेच नहीं सकता हूँ.

Babli ने कहा…

मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/

manu shrivastav ने कहा…

सफलता एक पिरामिड की तरह होती हैं.
आप जितना उपर जाते हो, वो उतनी सकरी होती जाती है.
और आप अकेले होते जाते हो.
--------------------------------------------
क्या मानवता भी क्षेत्रवादी होती है ?

बाबा का अनशन टुटा !

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" ने कहा…

मेरा बिना पानी पिए आज का उपवास है आप भी जाने क्यों मैंने यह व्रत किया है.

दिल्ली पुलिस का कोई खाकी वर्दी वाला मेरे मृतक शरीर को न छूने की कोशिश भी न करें. मैं नहीं मानता कि-तुम मेरे मृतक शरीर को छूने के भी लायक हो.आप भी उपरोक्त पत्र पढ़कर जाने की क्यों नहीं हैं पुलिस के अधिकारी मेरे मृतक शरीर को छूने के लायक?

मैं आपसे पत्र के माध्यम से वादा करता हूँ की अगर न्याय प्रक्रिया मेरा साथ देती है तब कम से कम 551लाख रूपये का राजस्व का सरकार को फायदा करवा सकता हूँ. मुझे किसी प्रकार का कोई ईनाम भी नहीं चाहिए.ऐसा ही एक पत्र दिल्ली के उच्च न्यायालय में लिखकर भेजा है. ज्यादा पढ़ने के लिए किल्क करके पढ़ें. मैं खाली हाथ आया और खाली हाथ लौट जाऊँगा.

मैंने अपनी पत्नी व उसके परिजनों के साथ ही दिल्ली पुलिस और न्याय व्यवस्था के अत्याचारों के विरोध में 20 मई 2011 से अन्न का त्याग किया हुआ है और 20 जून 2011 से केवल जल पीकर 28 जुलाई तक जैन धर्म की तपस्या करूँगा.जिसके कारण मोबाईल और लैंडलाइन फोन भी बंद रहेंगे. 23 जून से मौन व्रत भी शुरू होगा. आप दुआ करें कि-मेरी तपस्या पूरी हो

Rakesh Kumar ने कहा…

ज्योति जी आप तो प्रकाशस्वरूप हैं.फिर भय कैसा?
महाप्रलय शरीर की ही हो सकती है,आत्मा की नहीं. कबीरदास जी कहते हैं
'झूंठे सुख को सुख कहें, मानत हैं मन मोद
जगत चबेना काल का, कुछ मुख में कुछ गोद'

जीवन काल में हम आत्म ज्ञान प्राप्त करलें यही सबसे बड़ी ऊँचाई पर पहुँच पाने की तकनीक है.

आपके ब्लॉग पर देरी से आने के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ.

मनोज भारती ने कहा…

तन्हा ...तन्हा ...तन्हा मत सोचा कर
मर जाएगा तू मत सोचा कर ...

...शायद इस विकास में ही कुछ बेहतर निकल आए ...

Sachin Malhotra ने कहा…

badiya rachna ke liye badhaai..
मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)

Rakesh Kumar ने कहा…

आपके ब्लॉग पर दर्शन न होने से बहुत सूना सूना लगता है.

Rachana ने कहा…

sahi kaha aapne sthiti bhayabhit karne wali hi hai
sunder kavita
rachana

Ravi Rajbhar ने कहा…

Chinttan bilkul sahi hai...aur bhaykari bhi nishchit hi hamare kadam usi disha me badh rahe hain.

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

वर्तमान दशा का सटीक आकलन....

surendrshuklabhramar5 ने कहा…

ज्योति जी आप का भय बहुत सही है हम सब का भी लेकिन घबराइए मत प्रभु अपनी सत्ता अपना महल पूरा नहीं गिरता बस थोडा थोडा तोड़ सुधारता रहता है -सुन्दर रचना
शुक्ल भ्रमर ५