शुक्रवार, 30 अगस्त 2013

वैसा कुछ भी नहीं रहा

वैसा  कुछ  भी  नहीं   रहा  यहाँ  
जैसा  पहले  हुआ  करता  रहा  यहाँ 
वक़्त  के  दरिया  में  कल  बह  गया 
आज  हर  किसी  का  बदला  हुआ  है यहाँ     1

वक़्त  की  मांगे  करवटे  लेती  रहती  है  
उम्मीदे  बहुत  कुछ  बदल  देती  है  यहाँ 
आगाज़  से  बहुत  अलग  अंजाम  होता  है 
रिश्ते  बनते  है  जैसे  वैसे  रहते  नहीं  यहाँ  1 

5 टिप्‍पणियां:

kshama ने कहा…

Bahut dino baad aapne likha hai...bada achha laga...maibhi baith ke likh nahi pati hun,isliye purani post punah prakashit karti hun.

Alpana Verma ने कहा…

bahut dino baad aap blog par aayi ho.Kaisee ho?
Kavita bhi acchee bhaavon bhari laaayi ho..
sach waqt bahut kuchh badal deta hai.

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुन्दर कविता के साथ वापसी सुखद लगी.... उम्मीद है कि अब लगातार उपस्थिति दर्ज़ कराओगी.

आशा जोगळेकर ने कहा…

Rishte jaise bante hain waise rahate nahee yahan.
sunder prastuti.

संजय भास्‍कर ने कहा…

बड़े दिनों की अधीर प्रतीक्षा के बाद आज आपका आगमन हुआ है
....बहुत खूबसूरत अंदाज़ में पेश की गई है पोस्ट


संजय भास्‍कर
शब्दों की मुस्कुराहट
http://sanjaybhaskar.blogspot.com