शनिवार, 3 अप्रैल 2010

बदल गये ......



इतने जख्म मिले कि अब संभल गये


बात अब तुममे वो नही ,बदल गये


एतबार के सहारे सफ़र आगाज़ किया


जो छूट गया तुमसे तो ,हम थम गये


फासले बढ़ते - बढ़ते .मिट गये कही


रिश्ते जो दरम्यान रहे ,नही रह गये


मौत को ढकेल जिजीविषा बढ़ गयी


रात बड़ी और दिन अब सिमट गये


गमे-जुल्म जिंदगी पे ढाते कब तलक


तुम जो बदले तो ,हम भी बदल गये

17 टिप्‍पणियां:

Manoj Bharti ने कहा…

एक-एक शब्द विश्वास और एतबार से जिंदगी पर हुए गमे-जुल्म को बयां कर रहा है .... बहुत ही सुंदर कविता ... जीवन की सच्चाई बयां करती ।

संजय भास्कर ने कहा…

manoj bharti ji sahi kaha hai

संजय भास्कर ने कहा…

ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है .

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

acchhi kavita...dil k dard ko baya karti hui..badhayi.

nilesh mathur ने कहा…

तुम जो बदले तो हम भी बदल गए,
बहुत सुन्दर रचना है लेकिन मेरे ख्याल में ये इससे भी सुन्दर बन सकती है, यदि शब्दों का थोडा फेरबदल किया जाए.

अरुणेश मिश्र ने कहा…

शिल्प मे प्रखरता लाएँ ।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बहुत सुन्दर!

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत मार्मिक कविता।

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

एक अच्छी रचना ,बधाई

sandhyagupta ने कहा…

गमे-जुल्म जिंदगी पे ढाते कब तलक
तुम जो बदले तो ,हम भी बदल गये ।

Atyant bhavpurn aur umda prastuti.Tasveer bhi mohak hai.Shubkamnayen.

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी

गमे-जुल्म जिंदगी पे ढाते कब तलक
तुम जो बदले तो ,हम भी बदल गये

संजय भास्कर ने कहा…

.........बहुत बधाई Mummy जी।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

तुम जो बदले तो हम भी बदल गये ,.....
ऐसा ही होता है वक़्त की दौड़ में .... जीवन की सच्चाई बयां करती कविता .....

Apanatva ने कहा…

गमे-जुल्म जिंदगी पे ढाते कब तलक

तुम जो बदले तो ,हम भी बदल गये ।

bahut gahre bhav liye hai har pankti...........
bahut sunder abhivykti......

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

ज्योति सिंह जी'
अभिवंदन
"बदल गए " ग़ज़ल पढ़ी,
अच्छा लगा.

"एतबार के सहारे सफ़र आगाज़ किया

जो छूट गया तुमसे तो, हम थम गये "

उपरोक्त शेर बहुत अच्छा कहा है आपने.
- विजय तिवारी ' किसल

Reetika ने कहा…

bahut sundar..

Reetika ने कहा…

sundar prastuti..