सोमवार, 13 सितंबर 2010

याचना


आहिस्ते -आहिस्ते आती शाम

ढलते सूरज को करके सलाम ,

कल सुबह जो आओगे

लपेटे सुनहरी लालिमा तुम ,

आशाओं की किरणे फैलाना

मंजूर करे जिससे , ये मन

कण -कण पुलकित हो जाए

तुम ऐसी उम्मीद जगाना ,

जन -जन में भरकर निराशा

न रोज की तरह ढल जाना ,

आशाओ के साथ उदय हो

खुशियों की किरणे बिखराना,

करती आशापूर्ण याचना

हाथ जोड़कर आती शाम ,

रवि तुम्हे संध्या बेला पर

करू उम्मीदों भरा सलाम ।

18 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत सुन्दर आशाओं की उमीद जगाती रचना। बधाई।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव ..आशा का संचार स करती रचना

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सुंदर भाव ... आशा और स्फूर्ति का संदेश भरती ....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आशाओं की डोर से बँधा जगत का अस्तित्व।

रचना दीक्षित ने कहा…

आशाओं को समेटे आशावादी कविता

Dr.Ajeet ने कहा…

तुम से उम्मीद-ए-वफा होंगी जिन्हे होंगी हमे तो आजमाना है कि तु जालिम कहाँ तक...

एक शेर के बहाने अपनी बात कहने की कोशिस की है मैने...

उम्दा लेखन
डा.अजीत

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

आशा और उम्मीद जगाती....
प्यारी रचना ..... अच्छा लगा पढ़कर

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

आशाओं और उम्मीदों की सुंदर रचना .....!!

राहुल प्रताप सिंह राठौड़ ने कहा…

बढ़िया है .....
http://techtouchindia.blogspot.com
or
http://techtouch.tk

neelima garg ने कहा…

behao bhavpuran....

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

आशाओं के साथ उदय हो
खुशियों की किरणें बिखराना...
सार्थक...
आशा का संचार करती रचना.

अल्पना वर्मा ने कहा…

आशावादी दृष्टिकोण लिए हुए यह कविता बहुत सुन्दर बन पड़ी है.

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

आशावादी जज्बातों के साथ सुंदर शब्द व्यंजन.

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना


कण -कण पुलकित हो जाए

तुम ऐसी उम्मीद जगाना ,
वाह !बहुत बढ़िया!

kumar zahid ने कहा…

कण -कण पुलकित हो जाए
तुम ऐसी उम्मीद जगाना ,
जन -जन में भरकर निराशा
न रोज की तरह ढल जाना ,
रवि तुम्हे संध्या बेला पर
करू उम्मीदों भरा सलाम ।



ज्योति जी!
सूरज से यही उम्मीद होनी चाहिए। बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है।

Apanatva ने कहा…

aisee rachanae jo kuch pyare sandesh de jatee hai meree kamjoree hai......
bahut bahut sunder soch kee sunder abhivykti .

jyotijee abhee bhee bahar hoo hee atah samay par comment nahee de paa rahee hoo .

Shaivalika Joshi ने कहा…

Very Nice....
Chadte Suraj ko sabhi salaam Karte hai
Doobte Suraj ke Bahut Sunder Bhaav