सोमवार, 5 अक्तूबर 2009

सवाल बेहिसाब ..........

जिसे चाहा हमेशा ज़िन्दगी की तरह

वो रह गया आज अजनबी बनकर


गिला करे भी तो किसी से क्या कहकर

कल जो अपना था ,उससे दगा किया नही जाता


जो गुजर गई वो दास्ताँ अपनी थी

औरो का विश्वास हिलाया नही जाता


वफ़ा उसकी साथ अब भी है मेरे

यह यकीन मेरे पन्ने से मिटाया नही जाता


दुनिया के दस्तूर में हुआ वो भी शामिल

ख़िलाफ़ होकर उससे , जिया नही जाता


कुछ बात है उसमे ऐसी आज भी जरूर

जुदा होकर भी वो जुदा नही किया जाता


दिल को तरकीने से अब बहला लिया हमने

ये सोच दुनिया -ए-बेसबात में इकसां नही रहता

22 टिप्‍पणियां:

योगेश स्वप्न ने कहा…

kuchch baaat aisi hai........................juda kiya nahin jaata.

wah , sunder abhivyakti.

महामंत्री - तस्लीम ने कहा…

बहुत सुंदर भाव हैं, जिनमें आपकी सोच और आपके विचार स्पष्ट झलकते हैं।
बधाई।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

arun c roy ने कहा…

ati sundar ! dil ko choo lena wali rachna ! badhai !

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ज़िन्दगी के पन्नों से कुछ मिटता तो नहीं, पर सार मिलते हैं ....बहुत ही बढिया

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

jyoti ji
kya kahun , aapki is rachna ne to bahut kuch sochne par mazboor kar diya hai .. shabd seedhe seedhe dil me utar rahe hai ..
कुछ बात है उसमे ऐसी आज भी जरूर
जुदा होकर भी वो जुदा नही किया जाता ।
mujhe ye sabse acchi lagi ...

regards

vijay
www.poemsofvijay.blogspot.com

kshama ने कहा…

Apnehee kayee baar baar apnon pe wishwas nahee rakhte!!

MANOJ KUMAR ने कहा…

हताशा का संवेदनशील दस्तावेज। बधाई।

shama ने कहा…

Jise ham chahte hain zindagee se badhke, jab wo mooh mod lete hain to darkee parakashtha hotee hai..

Aap :

http://kavitasbysham.blogspot.com

is blogpe jayen...yaa sansmaran, tatha kahenee blog pe bhee jayngee to blog list hai, uspe click karen...lekin wo blog updated nahee hai...

http://shamasnasmaran.blogspot
is blog pe bhee links hai!

'Ek sawal tum karo' is blog pe tippanee ke liye tahe dilse shukriya!

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' ने कहा…

जो गुजर गई वो दास्ताँ अपनी थी
औरो का विश्वास हिलाया नही जाता ।
नैराश्य की अदभुत प्रस्तुति
बधाई

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

बहुत सुंदर भाव हैं, जिंदगी की सही तस्वीर दिखाते हुए।
करवाचौथ और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
----------
बोटी-बोटी जिस्म नुचवाना कैसा लगता होगा?

Amit K Sagar ने कहा…

इस बार मुझे कुछ कमी सी लगी...!

जारी रहें.
---


हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

Babli ने कहा…

ज्योति जी हौसला अफ़जाही के लिए बहुत बहुत शुक्रिया! आपने बिल्कुल सही कहा है कि कुत्ता भौकता है तो भौकने दे!
बहुत ही सुंदर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लिखी हुई आपकी ये शानदार रचना बेहद पसंद आया!

अर्शिया ने कहा…

कभी कभी लगता है कि जिंदगी एक सवाल ही तो है। आपने जिंदगी के सवालों को बहुत सलीके से शब्दों मं पिरोया है।
करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाएं।
----------
बोटी-बोटी जिस्म नुचवाना कैसा लगता होगा?

vikram7 ने कहा…

जो गुजर गई वो दास्ताँ अपनी थी
औरो का विश्वास हिलाया नही जाता ।
संवेदनशील रचना

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

कुछ बात है उसमे ऐसी आज भी जरूर
जुदा होकर भी वो जुदा नही किया जाता ।

जो गुजर गई वो दास्ताँ अपनी थी
औरो का विश्वास हिलाया नही जाता ।

बढ़िया और गहरे संवेदनशील भावों से ओत-प्रोत रचना बेहद पसंद आई.
हार्दिक बधाई.

चन्द्र मोहन गुप्त
जयपुर
www.cmgupta.blogspot.com

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

जो गुजर गई वो दास्ताँ अपनी थी
औरो का विश्वास हिलाया नही जाता ।

बहुत खूब सुन्दर लिखा है आपने शुक्रिया

ज्योति सिंह ने कहा…

yogesh ji ,zakir ji,arun ji vijay ji ,manoj ji aur girish ji aap sabhi ka shukriyaan tahe dil se .

ज्योति सिंह ने कहा…

rashmi ji ,kshama ji ,shama ji ,babli ji ,arshiya ji ,ranjana ji ,vikram ji ,chandramohan ji ,amit ji aap sabhi ka tahe dil se shukriyaan .

शोभना चौरे ने कहा…

गिला करे भी तो किसी से क्या कहकर
कल जो अपना था ,उससे दगा किया नही जाता ।
yahi to sachhe artho me jidgi hai .
bhut sundr bhavjaise sundar man.
abhar

ज्योति सिंह ने कहा…

shukriyaan shobhana ji aabhari hoon aapki

Murari Pareek ने कहा…

बहुत खुबसूरत रचना एक दिल से निकलती आवाज़ !! अपनों के दिए ज़ख्म भी संभालकर रखते हैं !!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कुछ बात है उसमे ऐसी आज भी जरूर
जुदा होकर भी वो जुदा नही किया जाता .....

लाजवाब शेर है ......... प्रेम में अक्सर ऐसा होता है ........ कुछ भी भूलना आसान नहीं होता .......