सोमवार, 26 अक्तूबर 2009

परछाईयाँ

ये मीलो की खामोशियाँ

दर्द से घिरी तन्हाईयाँ ,

नींद की जुदाईयाँ

ये रात की कहानियाँ ,

कर दिया चेहरे ने जाहिर

तेरी अपनी परेशानियां ,

बता रही है बखूबी

तेरे यार की रुसवाइयां ,

माथे की दरारों में

सिमटी है बेवफाइयाँ ,

सुलग रही साँसों में

चिंता की चिंगारियां ,

और मन को तोड़ने लगी

यकीं की लाठियाँ ,

बेरुखी दिखाने लगी

अपनी ही परछाईयाँ

10 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बहुत ही शानदार रचना

योगेश स्वप्न ने कहा…

bahut sunder abhivyakti ,

Apanatva ने कहा…

dil ko bhigane walee rachana hai.aabhar

ज्योति सिंह ने कहा…

shukriya aap sabhi ka dil se aabhari hoon .

दिगम्बर नासवा ने कहा…

मन में uthte bhaavon की सुन्दर abhivyakti है ...........

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत सुंदर भाव

MANOJ KUMAR ने कहा…

आपकी कविता अपनी आत्मीयता से पाठक को आकृष्ट कर लेती है।

ज्योति सिंह ने कहा…

shukriya taarif ke liye magar manoj ji aapki baton par yakin to nahi kiya jata ,yaha kuchh kahana bhi uchit nahi isliye main chup rahana hi uchit samajhti hoon ,aap se pahale bhi kai logo ne aesa kaha kahan tak sahi hai, ye mujhe hi nahi pata ,in sabhi se pare ek hi baat kahungi ki main bhavnao ki bahut kadr karti hoon ,insaaniyat ke aade aana pasand nahi ,neki ke siva kuchh umeed bhi nahi kisi se yahi mile kafi hai .sirf achchhai ke saath chalne ki koshish nirantar rahi aur rahegi ,karm karna dhyey hai baaki kuchh nahi sochti ,guru dutt ji ki ye line aksar mere jahan me rahati ---ye duniya agar mil bhi jaye to kya hai .......main apne jeevan me sada isi vichar ko pahan kar chali --saada jeevan unchch vichar is karan mujhe kisi vastu ka laalch bhi nahi .main kam bolna pasand karati hoon magar aapki baat ne mazboor kar diya kahane ko .kyoki aapki baton me sachchai nazar aai ,shukriya phir ek baar .

शोभना चौरे ने कहा…

और मन को तोड़ने लगी
यकीं की लाठियाँ ,
in pnktiyo ne to nishabd kar diya
sach kitni anubhvi bat khi hai .
bahut achhi rachna .abhar

gulzar hussain ने कहा…

bahoot achhi kavita hai