मंगलवार, 20 अक्तूबर 2009

कुछ ऐसे भी रिश्ते .होते .....

जाने क्या तुमसे रिश्ता है जो
कभी विरोध नही कर पाया मन ।
किस जन्म का साथ निभाने
आया , ये अन्तः मन का बंधन ।
उम्र सारी गुजर गई
एक अजनबी पहचान सी ,
फिर भी जिद्दी मन ये बोले
है नही आज का ये ,
है ये ,बरसो का बंधन ।
टीस उठी और आंखों में
आंसुओ का छाया घना सघन ।
ये मिलन जुदाई बनकर क्यो आई
क्यो तड़पे हर पल मन ।
इतने गहरे रिश्ते का
मध्यम सा है ,क्यो सावन ?
हम -तुम ढूंढ रहे जो मौसम
क्यो होता नही, उसका आगमन ।
उन बहार भरे रंगों के संग
झूमेगा ,किस दिन मन का आँगन ।
हलचल भरे ख्यालो में
उलझन भरे सवालों में ,
भारी होता जाये मन
बढ़ जाये दिल की धड़कन ।


--------------------------------------------
ये कुछ पंक्तियाँ डायरी से ली गई है ,इसलिए इस रचना को कविता के रूप में न ले क्योंकि लिखते वक्त कविता का रूप ले ली थी मगर लिखी गई थी दूसरे रूप में ,इस कारण एक दिन के लिए डाल रही हूँ । क्योकि साल गिरह है , इस अद्भुत रिश्ते का । और अपने ब्लॉग पर अंकित करने के उद्देश्य से भी ।

14 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

रश्मि प्रभा... ने कहा…

बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति

kshama ने कहा…

Haan..aisa anubhav kayee baar aata hai..man samajh nahee pata ki, ye kis janam kaa rishta hai, na tode tootta hai, na nibhaye nibhta hai..

MANOJ KUMAR ने कहा…

इस कविता में बहुत बेहतर, बहुत गहरे स्तर पर एक बहुत ही छुपी हुई करुणा और गम्भीरता है।

राज भाटिय़ा ने कहा…

जाने क्या तुमसे रिश्ता है जो
कभी विरोध नही कर पाया मन ।
किस जन्म का साथ निभाने
आया , ये अन्तः मन का बंधन ।
उम्र सारी गुजर गई
एक अजनबी पहचान सी ,
फिर भी जिद्दी मन ये बोले
है नही आज का ये ,
है ये ,बरसो का बंधन ।

हां मुझे लगता है जिस के दिल है, जिस की भावनाये जिंदा है उन सब को यह एहसास जरुर होता होगा... बहुत सुंदर कविता.
आप हा धन्यवाद

दिगम्बर नासवा ने कहा…

रिश्ते मानो तो रिश्ते हैं ........... अक्सर रिश्ते दिल से बंधते हैं और लम्बे चलते हैं .............. रिश्तों का मर्म खोजती सुन्दर बात लिखी है आपने ..........

ज्योति सिंह ने कहा…

aap sabhi ka tahe dil shukriyaan.

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

हलचल भरे ख्यालों में,
उलझन भरे सवालों में,
भारी होता जाये मन,
बढ़ जाये दिल की धड़कन

अबूझ भविष्य में संवेदनाओं की डांवाडोल होती अनुभूति को बहुत करीने से उकेरा है आपने........

बधाई.

सालगिरह किसकी, कुछ स्पष्ट न हो सका, इसीलिए कहना पड़ रहा है यथायोग्य बधाई.

चन्द्र मोहन गुप्त
जयपुर
www.cmgupta.blogspot.com

ज्योति सिंह ने कहा…

chanramohan ji shukriyaa saalgirah is adbhut bandhan ka .jo bana magar saath nahi hai .jise todkar bhi toda nahi gaya .ishwar ki aur se vardan swaroop mila .magar namumkin sa .

योगेश स्वप्न ने कहा…

jyoti ji , aapko is adbhut rishte ki saal girah bahut bahut bahut mubarak, jiske karan hamen itni sunder adbhut rachnayen padhne ko mil rahi hain.

Nirmla Kapila ने कहा…

बधाई जी इस रिश्ते की साल्गिरह पर । देर से ही सही स्वीकार करें शुभकामनायें

shama ने कहा…

Janam din kee badhayee ke liye tahe dil se shukriya!

Rachna ne mano mere dil se alfaaz chheen liye! Nihayat sundar!

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

शोभना चौरे ने कहा…

kuch rishte aise hi hote hai .bdhai salgirh ki .
kavita nhi hai fir bhi kvita hi ban pdi hai .bahut sundar
abhar

ज्योति सिंह ने कहा…

shamaji,shobhana ji ,yogesh ji ,nirmala ji aap sabhi logo ki badhai ek khushi bhara paigam rahi .