गुरुवार, 8 मार्च 2012

त्यौहार हमारे जीवन का अंग


किसी भी त्यौहार की गरिमा को बनाये रखना जरूरी है ,क्योंकि ये त्यौहार हमारी सभ्यता और संस्कृति को दर्शाते है ,ये हमें अपनी मातृभूमि से जोड़कर रखते है ,आपसी बैर को मिटा कर दोस्ती का हाथ बढ़ाने के लिए प्रेरित करते है ,बुराई को नष्ट कर अच्छाई की राह पे ले जाते है ,त्यौहार हमारे जीवन को खुशहाल और रिश्तों को मजबूत बनाये रखने का जरिया है ,इसी की वजह से हमें दफ्तरों और विद्यालयों से ढेरो छुट्टियां मिलती है , जिससे व्यस्तता घटती है तथा खुशियों को बाटने का अवसर हाथ लगता है ,ये जीवन में उत्साह व उल्लास के रंग भरते है ,जिससे जीने का हौसला दुगुना हो जाता है ,भला सोचिये क्या किसी और देश की मिटटी इतनी रंग बिरंगी है ,जितनी हमारे भारत देश की ,त्यौहार जीने का आधार है ,तभी तो हमें इससे प्यार है ,इसलिए हम सभी भारत वासियों की जिम्मेदारी बनती है कि इन त्योहारों की रौनक को बरकरार रखे ,इसके महत्व को कम न होने दे ,कितनी ही महंगाई क्यों न हो पकवानों को चखने का मौका इन्ही अवसरों पर मिलता है ,नूतन परिधान लेने का मौका हाथ लगता है ,घरो की सफाई भी हो जाती है इसी बहाने ,कितने फायदे है इनके होने से ,इनके स्वागत की तैयारी में ऐसे जुट जाते हम लोग कि परेशानी क्या होती है कुछ समय के लिए भूल जाते है ,सोचिये कितने प्यारे है अपने त्यौहार ,कुछ मीठा हो जाये की रस्म निभाते हुए आशीष ले और दे ,प्रेम से गले मिले और किसी प्रकार की कोई गन्दगी ना मचाये ताकि त्योहारों की पवित्रता बनी रहें ,यही निवेदन करती हूँ अपने देशवासियों से , रंग और गुलाल के साथ सभी को होली की शुभकामनाये l

23 टिप्‍पणियां:

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

सुंदर सन्देश लिए पोस्ट...उत्सवधर्मिता
जीवन को जीवंत बनाये रखती है....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रंग बिरंगे त्योहारों की धरती..

kshama ने कहा…

Aapko bhee holi bahut,bahut mubarak ho!

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

sundar sandesh !!!

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

त्योहारों में अपनापन होता है
बहुत सुंदर बेहतरीन प्रस्तुति.....

RESENT POST...फुहार...फागुन...
RECENT POST...काव्यान्जलि
...रंग रंगीली होली आई,

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bilkul sahi sandesh diya

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

वाह!!! छुट्टियों का क्या खूब मिलान किया है रिश्तों से!!! सुन्दर पोस्ट. बधाई. होली की शुभकामनायें भी.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सही और सार्थक सन्देश है आपकी पोस्ट में ..
रंग ऐसे होने चाहियें जो जीवन इमें रंग भरें न की गन्दगी ...
आपको होली की शुभकामनायें ...

Bharat Bhushan ने कहा…

उल्लास का दूसरा नाम ही त्यौहार है. विलंबित सही - होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

ANULATA RAJ NAIR ने कहा…

सार्थक लेखन...
बधाई...

Shanti Garg ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन रचना....

मेरे ब्लॉग
पर आपका हार्दिक स्वागत है।

Jeevan Pushp ने कहा…

सार्थक आलेख !
आभार !

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

त्यौहार पर आपका दर्शन बहुत अच्छा लगा ..सादर

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

त्यौहार हमारे जीवन का अंग है जीवन को जीवंत बनाये रखती है....
बहुत बढ़िया भावपूर्ण सुंदर रचना,...

RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

Asha Joglekar ने कहा…

वाह हमारी उत्सवधर्मिता को कितनी खूबसूरती से बयां करती है यह पोस्ट । आशा है आपकी होला रंगीली रही होगी ।

India Darpan ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....

इंडिया दर्पण की ओर से नव संवत्सर व नवरात्रि की शुभकामनाएँ।

प्रेम सरोवर ने कहा…

त्यौहार हमारे जीवन का विभिन्न रंगों में रंग देते हैं । कुछ दिन के लिए ही सही, मन में उल्लास भर जाता है ।
बहुत बढ़िया एवं सुंदर रचना के लिए बधाई। मेरे पोस्ट पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

प्रसन्नवदन चतुर्वेदी 'अनघ' PBChaturvedi ने कहा…

बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...बधाई...

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत पोस्ट ....बधाई

Rakesh Kumar ने कहा…

देरी से आने के लिए क्षमा चाहता हूँ.
जिस समय आपने यह पोस्ट लिखी,मैं
टायफाइड से ग्रस्त था.इसके बाद यू
एस चला गया.काफी दिन से आपका भी मेरे
ब्लॉग पर आना नहीं हुआ.आपको
याद करते हुए इस पोस्ट पर आया हूँ.
सुन्दर विवेचना की है आपने त्योहारों की.

होली की व बीते हुए त्योहारों की
हार्दिक शुभकामनाएँ आपको.

आपकी नई पोस्ट व मेरे ब्लॉग पर
आपके आगमन की प्रतीक्षा है.

प्रेम सरोवर ने कहा…

सार्थक पोस्ट। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रेहगा। धन्यवाद।

Rakesh Kumar ने कहा…

ज्योति जी आपकी अनुपस्थिति बहुत खल रही है.
बहुत दिनों से आपके दर्शन नही हुए हैं.
आशा करता हूँ कि आप स्वस्थ और कुशल होंगीं.
जल्द ही अपनी कुशलता का समाचार जरूर दीजियेगा.

Akhilesh pal blog ने कहा…

bahoot sundar