सोमवार, 18 मार्च 2019

न्याय का हिसाब

जब जब मुझे छोटा बनाया गया
मेरे तजुर्बे के कद को बढ़ाया गया

जब जब हँसकर दर्द सहा
तब तब और आजमाया गया ,

समझने के वक्त समझाया गया
क्या से क्या यहां बनाया गया ,

न्याय का भी अजीब हिसाब रहा
गलत को ही सही बताया गया ।

ज्योति सिंह

5 टिप्‍पणियां:

Virendra Singh ने कहा…

न्याय का भी अजीब हिसाब रहा गलत को सही बताया गया। बहुत खूब। आभार। सादर।

ज्योति सिंह ने कहा…

शुक्रियां वीरेंद्र जी नमस्कार

Anuradha chauhan ने कहा…

बहुत सुंदर रचना 👌

ज्योति सिंह ने कहा…

धन्यवाद अनुराधा जी ,

Kamini Sinha ने कहा…

बहुत खूब ,,होली की हार्दिक बधाई ज्योति जी