मंगलवार, 10 नवंबर 2009

मिटना -बनना

बहुत कुछ बिसार दिया

बहुत कुछ याद रक्खा ,

सहेजते -सहेजते

क्या कुछ गवा दिया ,

जो वक्त पकड़ सका

वो संभल गया ,

जो मन सह सका

वो पिघल गया ,

रेत की तरह

आहिस्ते -आहिस्ते

आज फिसल गया ,

और याद बनकर

अतीत ठहर गया

17 टिप्‍पणियां:

kshama ने कहा…

Peechhe mudke dekhte hain,to mahsooos hota kya chhoot gaya, kuchh paya, kafee kuchh paneki kamname kafee kuchh chhoot bhi jata hai...aisehi ham mitte bigadte rahte hain..
Aapki sabhi rachnayen sulajhi huee....anbhavse tarashe huee..hoti hain..

मनोज कुमार ने कहा…

रेत की तरह
आहिस्ते -आहिस्ते
आज फिसल गया ,
बहुत अच्छे भाव, इसी तरह बहुत कुछ पीछे छोड़कर हम आगे बढ़ते जाता हैं।

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत कुछ बिसार दिया
बहुत कुछ याद रक्खा ,
सहेजते -सहेजते
क्या कुछ न गवा दिया ,
बहुत सुंदर लिखा आप ने, बहुत गहरे भाव.

धन्यवाद

Apanatva ने कहा…

bahut hee sunder rachana sashakt bhavo ko sahajata se darshatee kavita .... .bahut bahut badhai .
Khatas par aapakee tippanee ka intzar hai .

Randhir Singh Suman ने कहा…

आज फिसल गया ,
और याद बनकर
अतीत ठहर गया ।nice

kshama ने कहा…

Phir ekbaar aapko padhne ka man hua...

Yogesh Verma Swapn ने कहा…

antim teenpanktian ati uttam.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ज़िन्दगी इसी तरह रेत की तरह फिसलती है, और यादों की गठरी में समा जाती है,बहुत बढिया

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत सुंदर याद बन कर अतीत ठहर गया,
क्या ज्योति जी इतनी मुश्किल से बाहर आ पाती हूँ और आप हैं कि फिर वहीँ भेज देती हैं

ज्योति सिंह ने कहा…

bahut bahut shukriyaan aap sabhi ka .kshama ji main dhanya ho gayi jo aap phir se aai dil se aabhari hoon .

kumar zahid ने कहा…

बहुत कुछ बिसार दिया
बहुत कुछ याद रक्खा ,
सहेजते -सहेजते
क्या कुछ न गवा दिया ,
जो वक्त पकड़ सका
वो संभल गया ,
जो मन न सह सका
वो पिघल गया ,
रेत की तरह
आहिस्ते -आहिस्ते
आज फिसल गया ,
और याद बनकर
अतीत ठहर गया ।

बहुत सादगी और सरलता के साथ जिन्दगी की गहराई को नापती रचना ... बहुत सुन्दर.... बधाई

महावीर ने कहा…

बहुत कुछ बिसार दिया
बहुत कुछ याद रक्खा ,
सहेजते -सहेजते
क्या कुछ न गवा दिया ,
बहुत गहरे भाव हैं.
महावीर शर्मा

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

मोहतरमा ज्योति सिंह जी,
विचारों की उथल पुथल के लिये उपयुक्त शब्दों का चयन किया है आपने.
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

गहरे भाव
अच्छी रचना

ज्योति सिंह ने कहा…

shukriyaa mahavir ji,jaahid ji,devendra ji ,shahid ji .tahe dil se aabhari hoon

संजय भास्‍कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com
Email- sanjay.kumar940@gmail.com

अनूप शुक्ल ने कहा…

सुन्दर!