सोमवार, 5 अप्रैल 2021

खट्टे- मीठे एहसास

उस पर ऐतबार रहा
वो ही मददगार रहा
इंसान की जात से तो
दिल बस बेजार  रहा । 

🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻

सुनाने वाला सुना देता है
सुनने वाला सुन लेता है
फिजूल की बातों पर
वक्त ही शहीद होता है । 
🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍂🍂🍂🍂

खुद के जीने के लिए यू  तो कभी सोचा ही नही
ख्वाहिश खुली हवा की हुई न हो ऐसा भी नहीं  । 


🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍃🍃🍃🍃🍃

ठिकाने बदलते रहे
रिश्तें बदलते रहे
कल से नाता तोड़ कर
आज से बंधते रहे। 

🥀🥀🥀🥀🥀🥀

कितने घर बदले 
कितने शहर बदले
फिर भी सोच वही थी
लोग नही बदले।

🌖🌖🌖🌖🌖🌖🌖🌖🌖🌖🌖 

मौसम अपने मुताबिक थे
फिर भी रास नहीं आये
मन के अच्छे होने से ही
मन को रास सभी आये  । 

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

ज्यादा की मांग जिंदगी को तबाह कर देती हैं
नाउम्मीदी आदमी को निराश कर देती हैं
अमीरी के कब्र पर पनपी गरीबी की घास
जिंदगी का जीना दुश्वार कर देती हैं  । 

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

20 टिप्‍पणियां:

Kamini Sinha ने कहा…

सादर नमस्कार ,

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (6-4-21) को "हार भी जरूरी है"(चर्चा अंक-4028) पर भी होगी।
आप भी सादर आमंत्रित है।
--
कामिनी सिन्हा

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा ने कहा…

अच्छी उक्तियाँ .....

ज्योति सिंह ने कहा…

बहुत बहुत शुक्रिया कामिनी जी

ज्योति सिंह ने कहा…

हार्दिक आभार

Meena Bhardwaj ने कहा…

सुप्रभात ज्योति जी ! जीवन के अहसासों को बहुत खूबसूरती से बयान क्षणिकाओं के रूप में अत्यन्त सुन्दर प्रस्तुति ।
मौसम अपने मुताबिक थे
फिर भी रास नहीं आये
मन के अच्छे होने से ही
मन को रास सभी आये ।
अत्यंत सुन्दर सृजन ।

जितेन्द्र माथुर ने कहा…

एक-एक छंद (या क्षणिका कहूं इन्हें) लाजवाब कर देने वाला है ।

Amrita Tanmay ने कहा…

गहरे में उतरती हुई ... अति सुन्दर ।

मन की वीणा ने कहा…

यथार्थ के धरातल पर सुंदर गठन सुंदर भाव।
सार्थक एहसास समेटे सुंदर सृजन।
बधाई ज्योति जी।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

हर मुक्तक अपने आप में मुक्कमल ... गहन भाव लिए हुए ...

अमीरी के कब्र पर पनपी गरीबी की घास
जिंदगी का जीना दुश्वार देती हैं ।

सटीक ....

ज्योति सिंह ने कहा…

दुश्वार कर देती है, टाइप के वक्त ध्यान नही गया, माफ कीजियेगा , बहुत बहुत शुक्रिया संगीता जी

ज्योति सिंह ने कहा…

हार्दिक आभार मीना जी

ज्योति सिंह ने कहा…

बहुत बहुत शुक्रिया

ज्योति सिंह ने कहा…

आपको रचना पसंद आई अमृता जी ये मेरा सौभाग्य है, तहे दिल से आपका शुक्रिया नमन

ज्योति सिंह ने कहा…

हार्दिक आभार कुसुम जी 🙏🙏

आलोक सिन्हा ने कहा…

बहुत बहुत सुन्दर मुक्तक

ज्योति सिंह ने कहा…

हार्दिक आभार 🙏🙏

Jyoti khare ने कहा…

प्रभावपूर्ण ओर सुंदर सृजन
बधाई

Jigyasa Singh ने कहा…

बहुत सुंदर सारगर्भित क्षणिकाएं । सुंदर और जज़्बाती एहसासों से भरपूर । सादर शुभकामनाएं आदरणीय ज्योति दीदी ।

विश्वमोहन ने कहा…

वाह! लाजवाब!!

Zee Talwara ने कहा…

प्रभावपूर्ण ओर सुंदर सृजन
बधाई
Free me Download krein: Mahadev Photo