शनिवार, 3 अप्रैल 2021

छोटी छोटी दो रचना


नींव की पुनरावृति कर 
खंडहर क्यो बुलंद करते हो ?
जर्जर हो गये जो ख्याल 
उनमे हौसला कहाँ जड़ पाओगे , 
अतीत को वर्तमान सा न बनाओ 
टूटे मन को कहाँ जोड़ पाओगे   । 

⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐

दर्द से दर्द का श्रृंगार नहीं होता
दर्द से किसी को प्यार नहीं होता
दर्द का कोई व्यापार नही होता
दर्द का कोई साहूकार नही होता 
दर्द का दर्द ही आप साथी हैं
दर्द से किसी को सरोकार नही होता। 



14 टिप्‍पणियां:

Meena Bhardwaj ने कहा…

दोनों कविताएं यथार्थ के धरातल पर खरी बात बयान करने वाली हैं ज्योति जी ! मन को छू गई ये पंक्तियाँ-अतीत को वर्तमान सा न बनाओ
टूटे मन को कहाँ जोड़ पाओगे।
और दूसरी कविता में-
दर्द का दर्द ही आप साथी हैं
दर्द से किसी को सरोकार नही होता।

ज्योति सिंह ने कहा…

अरे वाह मीना जी पोस्ट डालते ही आप आ गई, सुबह वाकई खूबसूरत है,आपको रचना पसंद आई मतलब कलम ने कुछ अच्छा लिख डाला, मनोबल बढ़ाने के लिए बहुत बहुत धन्यबाद 🙏🙏🌷🥀

Jigyasa Singh ने कहा…

दीदी आपकी,दोनों रचनाएं मन में उतर गईं, बिलकुल मजा आ गया,ऐसा लगा जैसे हम भी कुछ ऐसा ही कहना चाह रहे थे
टूटी हुई कड़ियां जुड़ जातीं
तो दर्द कहां होता ।
बिखरे हुए न हम होते
न वो होता ।।
ऐ मेरे दिल,काश उनकी तरह
तू एक परिंदा होता
दर्द जमीं पे डाल देता,
उड़ रहा आसमां होता ।।
सादर शुभकामनाओं सहित जिज्ञासा सिंह....

ज्योति सिंह ने कहा…

वाह जिज्ञासा बहुत ही सुंदर लिखा है, मेरी रचना से बेहतर लगी तुम्हारी बातें, हार्दिक आभार

Ravindra Singh Yadav ने कहा…

नमस्ते,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 05-04 -2021 ) को 'गिरना ज़रूरी नहीं,सोचें सभी' (चर्चा अंक-4027) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

#रवीन्द्र_सिंह_यादव

ज्योति सिंह ने कहा…

हार्दिक आभार, बहुत बहुत धन्यबाद रविंद्र जी

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

दर्द से दर्द का श्रृंगार नहीं होता
दर्द से किसी को प्यार नहीं होता
दर्द का कोई व्यापार नही होता
दर्द का कोई साहूकार नही होता
दर्द का दर्द ही आप साथी हैं
दर्द से किसी को सरोकार नही होता।

बहुत ही सटीक लिखा आपने ज्योति जी दर्द पर लिखी आपकी रचना वाकई शानदार है।

हर व्यक्ति चाहता है कि उसके जीवन में कभी दर्द ना आए
लेकिन सच्चाई तो यही है की ज़िन्दगी हो तो दर्द भी रहेगा।

अनीता सैनी ने कहा…

दोनों कविताएँ बहुत ही सुंदर मन को छूते भाव।
सादर

Onkar ने कहा…

बहुत सुन्दर

ज्योति सिंह ने कहा…

हार्दिक आभार, शुक्रिया सभी का

Amrita Tanmay ने कहा…

वाह क्या खूब कहा है । बहुत अच्छा लगा ।

मन की वीणा ने कहा…

बहुत खूब ज्योति जी बहुत ही सुंदर भाव मन में गहरे उतरते से। सुंदर क्षणिकाएं जैसे बंद्ध है दोनों।
दर्द की कोई परिभाषा नहीं होती।
न ही कोई नाप तोल जिसके पास जितना वहीं समझे कैसे चुकाता उसका मोल।
अप्रतिम।

आलोक सिन्हा ने कहा…

बहुत बहुत सुन्दर

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ज्योति पहली रचना में खयालों पर ज़ोर है । ख्याल जो जर्जर हो चुके , टूटा मन ,हौसलों की कमी नज़र आ रही है लेकिन अतीत को वर्तमान कैसे बनाया जा सकता है ? वर्तमान को तो अतीत जैसा बना सकते हैं । इसको स्पष्ट करो समझना चाहती हूँ ।

दूसरी कविता तो दर्द पर है । दर्द पर दर्द क्या लिखें वाकई दर्द का कोई साथी नहीं
दर्द है तो खुद सहना
दर्द है तो छुपा लेना
दर्द को न सारे आम करना
दर्द है तो ज़िन्दगी है
ज़िन्दगी है तो दर्द है ।